Career in International Relations: अगर बनाना चाहते हैं इंटरनेशनल रिलेशंस में अपना करियर, तो जानें कौन सा कोर्स हैं बेस्ट

Spread the love

Career in International Relations: वर्तमान समय में एक देश तथा दूसरे देशों के बीच इंटरनेशनल रिलेशंस बढ़ रही है। पहले तो यह रिलेशन केवल राजनीतिक संबंध तक ही सीमित था लेकिन अब समय राजनीतिक विज्ञान, अर्थशास्त्र विदेश नीति और समाजशास्त्र जैसे विषय को भी इसमें शामिल कर लिया गया है। अब सिर्फ सरकारी नौकरी ही नहीं बल्कि प्राइवेट नौकरियों में भी प्राइवेट कंपनी का एक देश से दूसरे देशों के साथ अपना रिलेशन बना रही है, जिससे कि युवाओं का काफी डिमांड बढ़ गया है। अगर आप भी अपना कैरियर इंटरनेशनल रिलेशंस के क्षेत्र में बनाना चाहते हैं

तो आज मैं आपको इस पोस्ट के माध्यम से इससे जुड़ी सभी जानकारी विस्तार पूर्वक बताने जा रहा हूं, इसके लिए आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा। मैं आपको बता दूं कि आप 12th की पढ़ाई को पूरी कर लेने के बाद एक ऐसे करियर ऑप्शन की तलाश कर रहे हैं जो कि दूसरे देशों के साथ संबंध रखते हो तो यह पोस्ट आपके लिए काफी आवश्यक होने वाला है। इसमें आप अलग-अलग देश के साथ आर्थिक या फिर वेबसाइट संबंध बनाने में सरकारी या फिर प्राइवेट कंपनियों को मदद करते हैं, जिसके लिए आपको काफी अच्छी खासी सैलरी भी दी जाती है। अगर आप भी इस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, तो आप नीचे दिए गए पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक पढ़े।

Career in International Relations
Career in International Relations

Career in International Relations

नीचे दिए गए पोस्ट के माध्यम से मैं आप सभी छात्रों का हार्दिक स्वागत करते हैं। यह पोस्ट उन सभी छात्रों के लिए बेहद खास होने वाला है जो की 12वीं की पढ़ाई पूरी कर चुके हैं और एक ऐसे करियर की तलाश कर रहे हैं जो कि उन्हें काफी अच्छी खासी सैलरी दे। इसलिए मैं आपको इस पोस्ट के माध्यम से एक ऐसे ही करियर के बारे में बताने जा रहा हूं, जिसके लिए आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा।

इंटरनेशनल रिलेशंस क्या हैं ?

सबसे पहले मैं आपको इंटरनेशनल रिलेशंस के बारे में बता दे कि यह आखिर होता क्या है? तो अगर इंटरनेशनल रिलेशन की बात की जाए तो यह एक तरह से दूसरे देशों के बीच संबंध होता है जो की अलग-अलग तरह का हो सकता है। इसमें सरकारी अंतर, सरकारी संगठन या फिर गैर सरकारी संगठन के साथ-साथ बहु राष्ट्रीय कंपनियों की भी भूमिका होती है। इसमें आपको अंतरराष्ट्रीय मंच में अपने देश का प्रतिनिधित्व करना होता है। अगर हम सरल भाषा में कहें यह कैरियर उन सभी छात्रों के लिए है, जो अपने देश को दूसरे देश में बढ़ चढ़कर दिखाना चाहते हैं जिससे कि अपने के साथ-साथ प्रोडक्ट और कंपनी का भी मुनाफा हो जिसके लिए उन्हें काफी अच्छी सैलरी भी दी जाती है।

इंटरनेशनल रिलेशंस शैक्षणिक योग्यता

अगर आप भी इस क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, तो आपको इंटरनेशनल रिलेशंस के लिए शैक्षणिक योग्यता कितनी आवश्यक है? इसके बारे में मैं आपको बता दूं कि कम से कम आपको इसके लिए किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से 12वीं पास होना अनिवार्य है। जिसमें कि आप राजनीतिक विज्ञान व मानवीय की विषय का अध्ययन कर सकते हैं। अगर आप अच्छे पोजीशन पर जॉब पाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना अनिवार्य है। आप चाहे तो अपना ग्रेजुएशन इंटरनेशनल रिलेशन से भी कर सकते हैं जिसके लिए कई कॉलेज इस कोर्स की सुविधा देती है।

Civil Service

इंटरनेशनल रिलेशंस के कोर्स को पूरा करने के बाद अगर आप सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई करना चाहते हैं, तो मैं आपको बता दूं कि इसके लिए लोक सेवा आयोग यूपीएससी की तरफ से सिविल सर्विस परीक्षा आयोजित करवाई जाती है। जिसमें आपको इस परीक्षा को पास करना होता है। इसके बाद आपको भारतीय विदेश सेवा आईएफएससी में शामिल हो सकते हैं।

Political and Government

अगर आप इंटरनेशनल रिलेशंस के कोर्स को पूरा कर लेते हैं, तो उसके बाद राजनीतिक विशेष या खुफिया विशेष के रूप में आपको कार्य करने का मौका मिलता है। इसमें राजनीतिक विशेष का कार्य यह होता है कि उन्हें दूसरे देशों के साथ अच्छा संबंध बनाना होता है जबकि खुफिया का काम खास मिशन के लिए दूसरे देश से डाटा और जानकारी को एकत्रित करना होता है। राजनीति के विशेष राजनीतिक मुद्दों पर दूसरे देशों की सरकार की नीतियों पर अपनी सरकार की सही सलाह देती है।

Business & Law

इंटरनेशनल कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप बिजनेस एंड लॉ के क्षेत्र में भी अपना कैरियर बना सकते हैं। इसमें आपको बिजनेस के क्षेत्र में कार्य करना होता है, जिससे आपको दूसरे देशों के सरकारी अधिकारियों के सामने अपने देश संगठन या फिर संस्था का प्रतिनिधित्व करना होता है और देश के इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा के साथ-साथ इंटरनेशनल एडवोकेट दो देशों के बीच के विवादों और व्यापारी एवं बैंकिंग की समस्याओं को सुलझाने का काम होता है।

यह भी पढ़े